राजसमंद में तीन लोगों की मौत, तालाब से निकाले युवकों के शव

राजसमंद के केलवाड़ा इलाके के ओड़ा तालाब में रविवार को तीन युवक कार (Three People Dead) सहित डूब गए। ये तीनो युवक गुजरात के गांधीनगर से राजस्थान में कुम्भलगढ़ घूमने आए थे।

0
141
Three people dead

राजसमंद के केलवाड़ा इलाके के ओड़ा तालाब में रविवार को तीन युवक कार (Three People Dead) सहित डूब गए। ये तीनो युवक गुजरात के गांधीनगर से राजस्थान में कुम्भलगढ़ घूमने आए थे। पुलिस को जानकारी मिलने के बाद मंगलवार शाम को गोताखोर और ग्रामीणों की सहायता से दो युवकों के शव निकाल लिए गए थे। लेकिन अंधेरा  हो जाने की वजह से तीसरे युवक का शव नहीं निकाल पाए थे। ऐसे में तीसरे युवक का शव और कार बुधवार सुबह तालाब से निकाला गया।

गुजरात से कुंभलगढ़ घूमने आये पर्यटकों के साथ हुआ दर्दनाक हादसा

इस हादसे के बारे में थानाधिकारी शैतानसिंह ने बताया कि गुजरात गांधीनगर के रहने वाले मंथन (30), रौनक (28) और निलेश रविवार सुबह उदयपुर घुमने आए थे। वे यहां से कुंभलगढ़ के लिए रवाना हुए। लेकिन, इसके बाद इनका कुछ पता नहीं चला।मंगलवार को इनके दो दोस्त केलवाड़ा थाने पहुंचे और पुलिस को इन तीनों (Three People Dead) की गुमशुदगी की सूचना दी।

दोस्तों ने बताया कि तीनों रविवार सुबह उदयपुर घूमने आए थे। अचानक तीनों प्लान बदलकर कुंभलगढ़ देखने चले गए। रात का अंधेरा होने पर दोस्तों को फोन कर बताया की रास्ता भटक गए,रास्ता मिलने पर फोन करते हैं। लेकिन बाद में उनका कोई फोन नहीं आया।

इसके बाद पुलिस ने जांच की तो इनके मोबाइल की लास्ट लोकेशन ओड़ा तालाब के पास मिली। पुलिस वहां पहुंची तो ओड़ा तालाब के मोड़ पर कार के टायरों की रगड़ और तालाब की दीवार का कोना टूटा मिला। इसके बाद पुलिस ने गोताखोरो को उतारा तो कार और युवकों के शव तालाब में डूबे मिले।

जिस पर बुधवार को केलवाड़ा थाना अधिकारी शैतान सिंह मय जाप्ते के तालाब के पास पहुंचे और गोताखोरों ग्रामीणों और मोबाइल क्रेन की मदद से तालाब से  कार को बाहर निकाला। बुधवार सुबह से करीब 5 घंटे तक गोताखोरों ने तालाब में तीसरे युवक की तलाश की। कड़ी मशक्कत के बाद तीसरे युवक (Three People Dead) के शव को भी तालाब से बाहर निकाल लिया गया।

पुलिस ने इस मामले में (Three People Dead) परिजनों की रिपोर्ट दर्ज कर जांच प्रारंभ कर दी गई। स्थानीय लोगों की मानें तो हादसे की वजह तालाब के आसपास किसी प्रकार का सांकेतिक बोर्ड नहीं होना वह तालाब के मुंडेर ऊंची नहीं होने की वजह से हादसा हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here