दशहरे से पहले ही बारिश से मरा रावण !

मंगलवार को दशहरा है और प्रदेशभर में एक से बढ़कर एक बड़े और रंग-बिरंगे रावण बनाकर तैयार किये गए।मगर दशहरे (Dussehra) से ठीक एक दिन पहले आई बारिश ने तैयार हुए रावण के पुतलों को तहस-नहस कर दिया।

0
168
Dussehra

29 सितंबर से शारदीय नवरात्री मनाई जा रही है। नवरात्रों के नो दिन खत्म होने के बाद मंगलवार 8 अक्टूबर यानि विजयादशमी को रावण का पुतला दहन किया जाएगा। विजयादशमी (Dussehra) पर रावण दहन को लेकर महीनों पहले से ही रावण के पुतले का निर्माण शुरू हो जाता है। रावण के पुतले के निर्माण को लेकर जहाँ कारीगरों में सबसे बड़ा पुतला बनाने की होड़ मची रहती है। वहीं दूसरी और दशहरा मैदानों में भी सबसे बड़ा रावण दहन करने की होड़ रहती है।

दशहरा के पहले रिलीज हुआ Laal Kaptaan का पोस्टर, दशानन बने सैफ अली खान

Dussehra

मंगलवार को दशहरा है और प्रदेशभर में एक से बढ़कर एक बड़े और रंग-बिरंगे रावण बनाकर तैयार किये गए।मगर दशहरे (Dussehra) से ठीक एक दिन पहले आई बारिश ने तैयार हुए रावण के पुतलों को तहस-नहस कर दिया। अचानक आयी मूसलाधार बारिश के कारण पुतला निर्माताओं को भारी नुकसान हुआ है।पुतला करीगरों के अगर माने तो प्रदेश में आई बारिश से लाखों का नुकसान उन्हें हो गया है।

 

लोगों ने कई दिनों पहले से उन्हें पुतले के लिए बुकिंग भी दे रखी थी पर भारी बारिश के कारण फुटपाथ पर पुतला निर्माण करने वाले इन पुतला विक्रेताओं को गहरा धक्का पहुँचा है। रावण,कुम्भकर्ण और मेघनाद के पुतलों को बेचकर ये फुटपाथ  पर रहने वाले कारीगर अपने दीपावली के त्यौहार को बेहतरीन बनाने के सपने देख रहे थे। पर वो सपने अब सपने बनकर ही रह गए हैं।

Dussehra

बता दें कि दशहरे (Dussehra) के लिए प्रदेशभर में लाखों रुपए के रावण के पुतलों का निर्माण किया जाता है। बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में जलाए जाने वाला रावण का पुतला जहाँ लोगों के लिए एक दानव की प्रतिमूर्त होता है। वहीं ये ही पुतला उन कारीगरों के लिए उनका भगवान होता है जो इसे बनाते हैं। क्योंकि इन पुतलों के जरिए उन कारीगरों को रोजगार मिलता है और उनकी आमदनी का एक बड़ा भाग भी इस पुतले के विक्रय पर उन्हें मिलता है।

कारीगरों को दुःख इस बात का भी है कि उनका ये नुकसान दशहरे (Dussehra) से ठीक एक दिन पहले हुआ है। जिसके कारण अब इन कारीगरों के पास नुकसान  की भरपाई करने का भी समय नहीं है और ना ही उतना सामान।

 

 

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here