महाबलीपुरम में नरेंद्र मोदी बने “गुजराती अन्ना”

देश के तमिलनाडु स्थित महाबलीपुरम (Mahabalipuram) में भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय वार्ता का आयोजन किया गया है। इस पूरे कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी एक अलग अंदाज और नया रूप देखने को मिला।

0
108
Mahabalipuram

देश के तमिलनाडु स्थित महाबलीपुरम (Mahabalipuram) में भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय वार्ता का आयोजन किया गया है। इस वार्ता के लिए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत आए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शी जिनपिंग की गर्मजोशी के साथ आवभगत की साथ ही महाबलीपुरम की अद्भुत वास्तुकला और सौंदर्य से रूबरू करवाया।

आखिर ‘महाबलीपुरम’ में ही क्यों हो रही है नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग की मुलाकात

इस पूरे कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी एक अलग अंदाज और नया रूप देखने को मिला। तो चलिए आपको रूबरू करवाते हैं ‘मोटा भाई’ के अन्ना स्टाइल से –

Mahabalipuram

 

 

अनौपचारिक वार्ता के लिए महाबलीपुरम (Mahabalipuram) पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार ‘अन्ना लुक’ यानि दक्षिण भारतीय पारम्परिक पोशाक ‘वेश्टी’ में दिखाई दिए हैं।

भारत-चीन के बीच की ‘इन्फॉर्मल समिट’ यानि अनौपचारिक वार्ता का आयोजन इस बार तमिलनाडु के महाबलीपुरम में हो रहा है। जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग कई अहम मसलों पर बात करेंगे। शी जिनपिंग का यह दौरा 48 घंटे का है।

Mahabalipuram

 

वहीं पीएम नरेंद्र मोदी के साथ महाबलीपुरम (Mahabalipuram) में हो रही इस मुलाकात में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी सादा लिवाज में नजर आए। पीएम मोदी ने जिनपिंग को महाबलीपुरम के अद्भुत नजारो और इतिहास से भी अवगत करवाया।

Mahabalipuram

महाबलीपुरम (Mahabalipuram) को अर्जुन की तपोस्थली माना जाता है। पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति को उस जगह से अवगत कराया, जहां पर अर्जुन ने तपस्या की थी।वहीं महाबलीपुरम के लिए कहा जाता है कि महाबलीपुरम और चीन का रिश्ता 1500 साल पुराना है। महाबलीपुरम के जरिए चीन से आयात किया जाता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here